Connect with us

अभिव्यक्ति

कांशीराम : एक ऐसी शख्सियत, जिन्हें समझने में सब चूक गए थे

Published

on

अंग्रेज़ी में एक मुहावरा है, ‘फ़र्स्ट अमंग दि इक्वल्स’. इसी शीर्षक से मशहूर ब्रिटिश लेखक जेफ़री आर्चर ने 80 के दशक में ब्रिटेन की सियासत पर एक काल्पनिक उपन्यास भी लिखा था. इसका मतलब है किसी विशेष समूह में शामिल व्यक्तियों में किसी एक का ओहदा, प्रतिष्ठा, हैसियत आदि सबसे ऊपर होना. इसे देश की केंद्रीय सरकार में प्रधानमंत्री के पद से समझा जा सकता है. मंत्रिमंडल में सभी मंत्री ही होते हैं, लेकिन प्रधानमंत्री पद पर बैठे व्यक्ति की हैसियत बाक़ी सभी मंत्रियों से काफी ज़्यादा होती है. उसके मुताबिक़ ही केंद्रीय मंत्रिमंडल तय होता है. वह इसका मुखिया है. दुनिया के लिए प्रधानमंत्री ही देश का चेहरा होता है. और यही वह पद है जिस पर आज़ादी के बाद दलित वर्ग का कोई व्यक्ति अभी तक नहीं पहुंचा है.

ऊपर जो छोटी सी भूमिका है, उसका कांशीराम के जीवन की एक घटना और उद्देश्य दोनों से गहरा संबंध है.

कहते हैं कि एक बार पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने कांशीराम को राष्ट्रपति बनने का प्रस्ताव दिया था, लेकिन कांशीराम ने यह प्रस्ताव ठुकरा दिया. उन्होंने कहा कि वे राष्ट्रपति नहीं बल्कि प्रधानमंत्री बनना चाहते हैं. ‘जिसकी जितनी संख्या भारी, उसकी उतनी हिस्सेदारी’ का नारा देने वाले कांशीराम भारतीय सत्ता को दलित की चौखट तक लाना चाहते थे. वे राष्ट्रपति बनकर चुपचाप अलग बैठने के लिए तैयार नहीं हुए. यह क़िस्सा पहले भी बताया जाता रहा है. लेकिन इस पर कोई खास चर्चा नहीं हुई कि आख़िर अटल बिहारी वाजपेयी कांशीराम को राष्ट्रपति क्यों बनाना चाहते थे. लेकिन कई राजनैतिक पंडित कहते हैं कि राजनीति में प्रतिद्वंद्वी को प्रसन्न करना उसे कमज़ोर करने का एक प्रयास होता है. ज़ाहिर है वाजपेयी इसमें कुशल होंगे ही. लेकिन जानकारों के मुताबिक वे कांशीराम को पूरी तरह समझने में थोड़ा चूक गए. वरना वे निश्चित ही उन्हें ऐसा प्रस्ताव नहीं देते“.

वाजपेयी के प्रस्ताव पर कांशीराम की इसी अस्वीकृति में उनके जीवन का लक्ष्य भी देखा जा सकता है. यह लक्ष्य था सदियों से ग़ुलाम दलित समाज को सत्ता के सबसे ऊंचे ओहदे पर बिठाना. उसे ‘फ़र्स्ट अमंग दि इक्वल्स’ बनाना. मायावती के रूप में उन्होंने एक लिहाज से ऐसा कर भी दिखाया. कांशीराम पर आरोप लगे कि इसके लिए उन्होंने किसी से गठबंधन से वफ़ादारी नहीं निभाई. उन्होंने कांग्रेस, बीजेपी और समाजवादी पार्टी से समझौता किया और फिर ख़ुद ही तोड़ भी दिया.

ऐसा शायद इसलिए क्योंकि कांशीराम ने इन सबसे केवल समझौता किया, गठबंधन उन्होंने अपने लक्ष्य से किया. इसके लिए कांशीराम के आलोचक उनकी आलोचना करते रहे हैं. लेकिन कांशीराम ने इन आरोपों का जवाब बहुत पहले एक इंटरव्यू में दे दिया था. उन्होंने कहा था, ‘मैं उन्हें (राजनीतिक दलों) ख़ुश करने के लिए ये सब (राजनीतिक संघर्ष) नहीं कर रहा हूं.’

अपने राजनीतिक और सामाजिक संघर्ष के दौरान कांशीराम ने, उनके मुताबिक़ ब्राह्मणवाद से प्रभावित या उससे जुड़ी हर चीज़ का बेहद तीखे शब्दों में विरोध किया, फिर चाहे वे महात्मा गांधी हों, राजनीतिक दल, मीडिया या फिर ख़ुद दलित समाज के वे लोग जिन्हें कांशीराम ‘चमचा’ कहते थे. उनके मुताबिक ये ‘चमचे’ वे दलित नेता थे जो दलितों के ‘स्वतंत्रता संघर्ष’ में दलित संगठनों का साथ देने के बजाय पहले कांग्रेस और बाद में भाजपा जैसे बड़े राजनीतिक दलों में मौक़े तलाशते रहे.

कांशीराम और उनकी विचारधारा को मानने वाले लोग कहते हैं कि इन जैसे नेताओं ने दलित संघर्ष को कमज़ोर करने का काम कामयाबी से किया. अपनी किताब ‘चमचा युग’ में कांशीराम ने इसके लिए राष्ट्रपिता महात्मा गांधी और कांग्रेस पार्टी को ज़िम्मेदार ठहराया है. उन्होंने लिखा है कि अंबेडकर की दलितों के लिए पृथक निर्वाचक मंडल की मांग को गांधीजी ने दबाव की राजनीति से पूरा नहीं होने नहीं दिया और पूना पैक्ट के फलस्वरूप आगे चलकर संयुक्त निर्वाचक मंडलों में उनके ‘चमचे’ खड़े हो गए.

चमचों की ज़रूरत

कांशीराम का मानना था कि जब-जब कोई दलित संघर्ष मनुवाद को अभूतपूर्व चुनौती देते हुए सामने आता है, तब-तब ब्राह्मण वर्चस्व वाले राजनीतिक दल, जिनमें कांग्रेस भी शामिल है, उनके दलित नेताओं को सामने लाकर आंदोलन को कमज़ोर करने का पुरजोर प्रयास करते हैं. कांशीराम ने लिखा है, ‘औज़ार, दलाल, पिट्ठू अथवा चमचा बनाया जाता है सच्चे, खरे योद्धा का विरोध करने के लिए. जब खरे और सच्चे योद्धा होते हैं चमचों की मांग तभी होती है. जब कोई लड़ाई, कोई संघर्ष और किसी योद्धा की तरफ से कोई ख़तरा नहीं होता तो चमचों की ज़रूरत नहीं होती, उनकी मांग नहीं होती. प्रारंभ में उनकी उपेक्षा की गई. किंतु बाद में जब दलित वर्गों का सच्चा नेतृत्व सशक्त और प्रबल हो गया तो उनकी उपेक्षा नहीं की सजा सकी. इस मुक़ाम पर आकर, ऊंची जाति के हिंदुओं को यह ज़रूरत महसूस हुई कि वे दलित वर्गों के सच्चे नेताओं के ख़िलाफ़ चमचे खड़े करें.’

अंत समय तक ‘शू्न्य’

1958 में ग्रेजुएशन करने के बाद कांशीराम ने पुणे स्थित डीआरडीओ में बतौर सहायक वैज्ञानिक काम किया था. इसी दौरान अंबेडकर जयंती पर सार्वजनिक छुट्टी को लेकर किए गए संघर्ष से उनका मन ऐसा पलटा कि कुछ साल बाद उन्होंने नौकरी छोड़कर ख़ुद को सामाजिक और राजनीतिक संघर्षों में झोंक दिया. अपने सहकर्मी डीके खरपडे के साथ मिलकर उन्होंने नौकरियों में लगे अनुसूचित जातियों -जनजातियों, पिछड़े वर्ग और धर्मांतरित अल्पसंख्यकों के साथ बैकवर्ड एंड माइनॉरिटी कम्युनिटीज एंप्लायीज फेडरेशन (बामसेफ़) की स्थापना की. यह संगठन आज भी सक्रिय है और देशभर में दलित जागरूकता के कार्यक्रम आयोजित करता है. 1981 में कांशीराम ने दलित शोषित समाज संघर्ष समिति की शुरुआत की जिसे डीएस4 के नाम से जाना जाता है, और 1984 में बहुजन समाज पार्टी (बीएसपी) का गठन किया. आगे चलकर उन्होंने मायावती को उत्तर प्रदेश की पहली दलित महिला मुख्यमंत्री बनाया. ऐसा देश के किसी भी सूबे में पहली बार हुआ था.

 

इस पूरे सफ़र में कांशीराम ने लाखों लोगों को अपने साथ जोड़ा. इसके लिए सैकड़ों किलोमीटर साइकल दौड़ाई और मीलों पैदल चले. ऐसे भी मौके आए जब उन्होंने फटी कमीज़ पहनकर भी दलितों की अगुवाई की. उन्हें नीली या सफ़ेद कमीज़ के अलावा शायद ही किसी और रंग के कपड़े में देखा गया हो.

90 के दशक के मध्य तक कांशीराम की हालत बिगड़ने लगी थी. उन्हें शुगर के साथ ब्लड प्रेशर की भी समस्या थी. 1994 में उन्हें दिल का दौरा पड़ा. 2003 में उन्हें ब्रेन स्ट्रोक हो गया. लगातार ख़राब होती सेहत ने 2004 तक आते-आते उन्हें सार्वजनिक जीवन से दूर कर दिया. आख़िरकार नौ अक्टूबर, 2006 को दिल का दौरा पड़ने से दलितों की राजनीतिक चेतना का मानवीय स्वरूप कहे जाने वाले इस दिग्गज की मृत्यु हो गई.

कांशीराम ने केवल एक व्यक्ति के लिए कुछ नहीं किया. ये व्यक्ति वे ख़ुद थे. घर त्यागने से पहले परिवार के लिए वे एक चिट्ठी छोड़ गए थे. इसमें उन्होंने लिखा था, ‘अब कभी वापस नहीं लौटूंगा’. और वे सच में नहीं लौटे. न घर बसाया और न ही कोई संपत्ति बनाई. परिवार के सदस्यों की मृत्यु पर भी वे घर नहीं गए. परिवार के लोग कभी लेने आए तो उन्होंने जाने से इनकार कर दिया.

संसार में ऐसे राजनीतिक व्यक्तित्व विरले ही हुए हैं जिन्होंने अपने संघर्ष से वंचितों को फ़र्श से अर्श तक पहुंचाया, लेकिन ख़ुद के लिए आरंभ से अंत तक ‘शून्य’ को प्रणाम करते रहे. कांशीराम ऐसी ही एक मिसाल हैं. वे संन्यासी नहीं थे, लेकिन बहुत से लोग मानते हैं कि जीवन में कुछ त्यागने के प्रति जो समर्पण कांशीराम ने दिखाया, वैसा बड़े-बड़े संन्यासी भी नहीं कर पाते.

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Advertisement

मनोरंजन

Amrapali-Dubey-sexy-hot-dance-video-set-the-internet-fire Amrapali-Dubey-sexy-hot-dance-video-set-the-internet-fire
मनोरंजन1 month ago

Amrapali Dubey Sexy Photo Video: आम्रपाली दुबे ने सेक्सी फोटो शेयर कर ढाया कहर, बोल्डनेस देख फैंस रह गए दंग

Amrapali Dubey Sexy Photo Video: हमेशा ही अपनी सेक्सी फोटो वीडियो को लेकर चर्चा में रहने वाली एक्ट्रेस आम्रपाली दुबे एक...

Sunny Leone Sunny Leone
मनोरंजन1 month ago

सनी लियोनी कोलकाता के जाने-माने कॉलेज की मेरिट लिस्ट में टॉपर!

बॉलीवुड एक्ट्रेस सनी लियोनी का शुक्रवार सुबह एक ट्वीट देखकर लोग हैरान रह गए। दरअसल एक ट्विटर यूजर ने कोलकाता...

Monalisa hot photos Monalisa hot photos
मनोरंजन3 months ago

Monalisa Photos: ब्लैक टॉप और शॉर्ट्स में कहर ढा रही है मोनालिसा, फोटो देखते ही बन जाओगे दिवाने !

भोजपुरी एक्ट्रेस मोनालिसा (Monalisa) इन दिनों सोशल मीडिया पर काफी एक्टिव हो गई है। लॉकडाउन (Lockdown) में वह अपने पति...

Amrapali Dubey Amrapali Dubey
मनोरंजन3 months ago

Amrapali Dubey Photo Video: आम्रपाली दुबे की हॉट फोटो ने बढ़ाया सोशल मीडिया का पारा

Amrapali Dubey Photo Video: भोजपुरी फिल्मों के मशहूर एक्ट्रेसों में से एक आम्रपाली दुबे की एक तस्वीर सोशल मीडिया पर काफी...

Poonam pandey Poonam pandey
भारत5 months ago

Lockdown के नियम तोड़कर मुश्किल में फंसीं एक्ट्रेस Poonam Pandey, हुआ मामला दर्ज

मुंबई पुलिस ने लॉकडाउन का उल्लंघन करने के आरोप में रविवार को मॉडल और अभिनेत्री पूनम पांडे (Poonam Pandey) के खिलाफ...

बड़ी खबरें

Immunity Booster Diet Plan Immunity Booster Diet Plan
स्वास्थ्य1 month ago

Immunity Booster Diet Plan: इम्युनिटी बढ़ाने के लिए डाइट में शामिल करें ये 10 चीजें

Immunity Booster Diet Plan: कोरोना वायरस महामारी से बचने के लिए अपने आसपास साफ सफाई और खाने में अच्छी डाइट का...

Breaking news Breaking news
भारत1 month ago

Breaking News Bulletin: आज की प्रमुख खबरें

04:37 PM28-08-2020 J&K: शोपियां जिले के किलोरा इलाके में सुरक्षा बलों और आतंकवादियों के बीच मुठभेड़ 03:37 PM28-08-2020 NEET-JEE की...

खेल1 month ago

Today’s Top Sports News: इंग्लैंड-पाकिस्तान के बीच पहला टी-20 मैच आज

इंग्लैंड और पाकिस्तान के बीच तीन मैचों की टी20 इंटरनैशनल सीरीज का पहला मैच 28 अगस्त को खेला जाना है।...

MP-Electricity-Bill-News MP-Electricity-Bill-News
भारत1 month ago

MP ऊर्जा मंत्री की भाभी का सात महीने में आया 1 करोड़ का बिल

मध्य प्रदेश में बिजली कंपनी ने ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर के परिवार को भी नहीं बक्शा और बिजली का...

स्वास्थ्य1 month ago

Corona Vaccine: ऑक्सफर्ड के कोविड-19 टीके का इंसानों पर दूसरे चरण का परीक्षण शुरू

ऑक्सफर्ड के कोविड-19 टीके (Oxford Covid-19 Vaccine) का मानव पर दूसरे चरण का क्लीनिकल परीक्षण यहां बुधवार को एक मेडिकल कॉलेज अस्पताल...

Monsoon Vehicle Care Tips Monsoon Vehicle Care Tips
बिज़नेस1 month ago

Monsoon Vehicle Care Tips: ये 6 बाते जरूर याद रखे

OnePlus Clover OnePlus Clover
बिज़नेस1 month ago

बजट सेगमेंट में धमाका करने आ रहा OnePlus Clover, मिलेगी 6000mAh की ‘महा-बैटरी’

टेक ब्रैंड वनप्लस ने मार्केट में वैल्यू-फॉर-मनी हैंडसेट्स ऑफर करते हुए जगह बनाई है और बीते दिनों मिड-रेंज प्राइस पर...

Mohit beniwal Mohit beniwal
उत्तर प्रदेश1 month ago

UP BJP ने किया क्षेत्रीय अध्यक्ष के नामों का ऐलान, मोहित बेनीवाल को मिली पश्चिम की कमान

बीजेपी में 2022 यूपी विधानसभा की तैयारियों को लेकर सुगबुगाहट तेज है। पिछले दिनों प्रदेश इकाई के बड़े पदों पर...

पिछले सेमेस्टर के आधार पर रिजल्ट देने पर करें विचार: हाईकोर्ट पिछले सेमेस्टर के आधार पर रिजल्ट देने पर करें विचार: हाईकोर्ट
एडुकेशन2 months ago

फाइनल एग्जाम पर रोक, पिछले सेमेस्टर के आधार पर रिजल्ट देने पर करें विचार: हाईकोर्ट

फाइनल एग्जाम के खिलाफ याचिका दायर करने वाले छात्रों को पंजाब एंड हरियाणा हाईकोर्ट ने बड़ी राहत दी है। हाईकोर्ट...

फाइनल एग्जाम के पक्ष में देश की 603 यूनिवर्सिटी फाइनल एग्जाम के पक्ष में देश की 603 यूनिवर्सिटी
एडुकेशन2 months ago

फाइनल एग्जाम के पक्ष में देश की 603 यूनिवर्सिटी, यूजीसी ने जारी की नई रिपोर्ट

यूजीसी गाइडलाइन के आधार पर देश भर की 603 यूनिवर्सिटी ने फाइनल एग्जाम कराने के पक्ष में सहमति दी है।...

Advertisement

Trending